Rashtriya Krishi Vikas Yojana (RKVY) राष्ट्रीय कृषि विकास योजना Benefit, Features, Scheme in Hindi

Rashtriya Krishi Vikas Yojana – RKVY राष्ट्रीय कृषि विकास योजना (आरकेवीवाई)

Rashtriya Krishi Vikas Yojana – RKVY

Name of Yojana/ Scheme

Rashtriya Krishi Vikas Yojana – RKVY

banksathi ifsc codes

Powered By

Central Government of India

Launched By

PM Manmohan Singh

Launched on

16th August 2007

RKVY Yojana Aims

It is aimed at achieving 4% annual growth in agriculture through the development of agriculture and its related areas during the 11th Five Year Plan (2007) period.

Who can take advantage of it?

1.       RKVY भारत सरकार द्वारा अनिवार्य रूप से लागु किया गया कार्क्रम हैं।

2.       इस योजना से स्थानीय आवश्यकताओं, भौगोलिक / जलवायु परिस्थितियों, उपलब्ध प्राकृतिक संसाधनों / प्रौद्योगिकी और फसलों के बारे में जानकारी शामिल हैं।

3.       कृषि में वृद्धि के लिए सार्वजनिक निवेश की योजना तैयार करना।

4.       भारत के राज्यों और क्षेत्रों को कृषि के लिए सहायता प्रदान करना।

5.       कृषि और इसके संबंधित क्षेत्रों में किसानों के रिटर्न को अधिकतम किया जा सके।

लक्ष्य: ग्यारहवीं पंचवर्षीय योजना के दौरान कृषि में 4 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि प्राप्त करना है।

Budget

Defined below by state wise

Premium Divided

100% Powered by Central Government

आरकेवीवाई योजना के अंतर्गत आने वाले क्षेत्र

1. क्रोप पति (बागवानी सहित), 2. पशुपालन, डेयरी विकास और मत्स्य पालन, 3. कृषि अनुसंधान और शिक्षा, 4. कृषि विपणन, 5. खाद्य भंडारण और भण्डारण, 6. मिट्टी और जल संरक्षण, 7. कृषि वित्तीय संस्थानों, 8. अन्य कृषि कार्यक्रम और सहयोग

Official Site

rkvy.nic.in

—————————————————————————————–

What is Rashtriya Krishi Vikas Yojana? RKVY Introduction

With the efforts of the National Development Council, the Government of India gave approval to the National Agricultural Development Plan on August 16, 2007. 25 thousand crore rupees were allocated by the government for five years for this scheme. The objective of the National Agricultural Development Scheme is to achieve an annual increase of 4% in agriculture during the Eleventh Five Year Plan, ensuring the overall development of agriculture and allied sectors. Apart from the percentage of expenditure incurred on the National Agriculture Development Scheme, Agriculture and Allied Sectors, eligibility for assistance under this scheme will depend on the amount kept in the budgets for agriculture and allied sectors. Under the National Agricultural Development Scheme, the Central Government will provide funds to the States in the form of 100% grant.

—————————————————————————————–

RKVY Basic Features

  1. This is a national plan
  2. Through RKVY, the State Plan expenditure for agriculture entitlement and affiliated areas is maintained.
  3. Baseline expenditure has been determined based on the average expenditure incurred by the State Government during the three years before the previous year.
  4. Preparation of district and state agricultural schemes is mandatory for RKVY
  5. RKVY scheme encourages convergence with other programs like NREGS.
  6. Pattern of funding of this scheme is 100% central government grants.
  7. This is an incentive plan, so the allocation is not automated
  8. This will involve agriculture and allied sectors to be widely integrated.
  9. It will give states a high level of flexibility (support to the weaker state)
  10. Projects are highly encouraged with definite timelines

—————————————————————————————–

Rashtriya Krishi Vikas Yojana (RKVY) in Hindi राष्ट्रीय कृषि विकास योजना

राष्ट्रीय कृषि विकास योजना भारत सरकार द्वारा चलाई जाने वाली योजनाओं में से एक प्रमुख योजना हैं। इस योजना की स्थापना राष्ट्रीय विकास परिषद के प्रयासों से 16 अगस्त, 2007 को भारत सरकार डरा की गयी। इस योजना हेतु सरकार द्वारा पांच वर्ष के लिए 25 हजार करोड़ रुपए आवंटित किए गए। यह योजना नेशनल डेवलपमेंट काउंसिल के जरिये चलाई जाएगी।  राष्ट्रीय कृषि विकास योजना का उद्देश्य कृषि और सम्बद्ध क्षेत्रों का सम्पूर्ण विकास सुनिश्चित करके, ग्यारहवीं पंचवर्षीय योजना के दौरान कृषि में 4 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि प्राप्त करना है। इस योजना के जरिये कई क्षेत्रों का विकाश करना हैं जैसे कि क्रोप पति (बागवानी सहित), पशुपालन, डेयरी विकास और मत्स्य पालन, कृषि अनुसंधान और शिक्षा, कृषि विपणन, खाद्य भंडारण और भण्डारण, मिट्टी और जल संरक्षण, कृषि वित्तीय संस्थानों, अन्य कृषि कार्यक्रम और सहयोग आदि।

—————————————————————————————–

राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के उद्देश्य

Objectives of National Agriculture Development Plan

  1. यह कार्यक्रम अनिवार्य रूप से भारत सरकार द्वारा हर एक के लिए लागु किया जाता है।
  2. इसके जरिये स्थानीय आवश्यकताओं, भौगोलिक/ जलवायु परिस्थितियों, उपलब्ध प्राकृतिक संसाधनों/ प्रौद्योगिकी और फसलों के बारे में जानकारी शामिल करना हैं।
  3. कृषि में वृद्धि के लिए सार्वजनिक निवेश की योजना तैयार करना।
  4. इसका मुख्य उद्देश्य भारत के राज्यों और क्षेत्रों को कृषि के लिए सहायता प्रदान करना चाहता है।
  5. इससे कृषि और इसके संबद्ध क्षेत्रों की उत्पादकता में उल्लेखनीय रूप से वृद्धि हो सके।
  6. कृषि और इसके संबंधित क्षेत्रों में किसानों के रिटर्न को अधिकतम किया जा सके।

—————————————————————————————–

आरकेवीवाई योजना के अंतर्गत आने वाले क्षेत्रों की सूची

List of allied sectors covered under the scheme

  • क्रोप पति (बागवानी सहित)
  • पशुपालन, डेयरी विकास और मत्स्य पालन
  • कृषि अनुसंधान और शिक्षा
  • कृषि विपणन
  • खाद्य भंडारण और भण्डारण
  • मिट्टी और जल संरक्षण
  • कृषि वित्तीय संस्थानों
  • अन्य कृषि कार्यक्रम और सहयोग

—————————————————————————————–

आरकेवीवाई के आने वाले काम

Work Focus Under the RKVY

  1. मोटे अनाज, छोटे बाजरा और दालों सहित खाद्य फसलों का एकीकृत विकास
  2. कृषि मशीनीकरण
  3. मृदा स्वास्थ्य और उत्पादकता
  4. रेनफर्ड फार्मिंग सिस्टम का विकास
  5. एकीकृत हानिकारक कीट प्रबंधन
  6. विस्तार सेवाओं को बढ़ावा देना
  7. बागवानी
  8. पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन
  9. रेशम के कीड़ों का पालन
  10. किसानों का अध्ययन पर्यटन
  11. कार्बनिक और जैव-उर्वरक
  12. अभिनव योजनाएं

—————————————————————————————–

RKVY Eligibility:

Each state is eligible for financing under the National Agricultural Development Plan if it increases its expenditure on agriculture and allied areas related to the total expenditure, where the base line for this expenditure (which will increase every year) is agriculture And the expenditure incurred by the State Government for the last three years on its affiliated areas is not less than any amount related to agriculture and its related areas, which Beverages can be obtained under the state plan.

Click Here – RKVY Official Site

 ——————————————————————————-

About Page: 

You can get information about several types of Prime Minister schemes in our country from our page like Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana (PMSBY)Pradhan Mantri Jan Dhan Yojana (PMJDY)Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana (PMKVY)Pradhan Mantri Sahaj Bijli Har Ghar Yojana (Saubhagya Yojana)Pradhan Mantri Gram Sadak Yojana (PMGSY)Pradhan Mantri Garib Kalyan Yojana, Pradhan Mantri Ujjwala Yojana (PMUY)Pradhan Mantri Gramodaya Yojana (PMGY)Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana (PMKSY)Pradhan Mantri Rozgar Yojana PMRPYWe have not made any impact on our plans. Even if you have to ask something about it, then you will be able to solve your problems as soon as possible by giving your question in the comment box below.

 

Add Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.