हिंदी दिवस

परिचय

 

भारत का डाक टिकट, हिन्दी दिवस
भारत का डाक टिकट

 

भारत में हिंदी दिवस का आयोजन 14 सितंबर 1949 को भारतीय संविधान के निर्माण के दौरान आधिकारिक भाषा के प्रति एक महत्वपूर्ण निर्णय की याद में किया जाता है। इस निर्णय को, जिसे मुंशी-अय्यंगर सूत्र कहा जाता है, समिति के दो सदस्यों, के. एम. मुंशी और एन. गोपालस्वामी अय्यंगर के नाम पर रखा गया है। तीन साल की चर्चा के बाद, दो मुख्य विचार सामने आए: कुछ लोग चाहते थे कि मॉडर्न हिंदी को भारत की एकमात्र राष्ट्रीय भाषा बनाया जाए, जिससे ब्रिटिश शासन के दौरान प्रयुक्त उर्दू को प्रतिस्थापित किया जाए, जबकि कुछ लोग चाहते थे कि अंग्रेजी को भी भूमिका मिले। अंत में समझौता किया गया कि:

• हिंदी मुख्य आधिकारिक भाषा होगी।

• अंग्रेजी भी 15 वर्षों तक आधिकारिक रूप में प्रयुक्त होगी, जब तक हिंदी का विकास होता रहेगा।

• हिंदू-अरबी संख्या प्रणाली को आधिकारिक संख्या प्रणाली माना जाएगा। ये निर्णय भारतीय संविधान के 343-351 अनुच्छेद बने, जो 26 जनवरी 1950 से प्रारंभ हुए।

1965 में, भारत सरकार ने तय किया कि अंग्रेजी अब भी हिंदी के साथ आधिकारिक रूप में प्रयुक्त होगी। हिंदी दिवस पर, स्कूलों और अन्य स्थलों पर कई स्थानीय कार्यक्रम होते हैं। कुछ महत्वपूर्ण कार्यक्रमों में:

• भारत के भूतपूर्व राष्ट्रपति, स्व. प्रणब मुखर्जी ने विज्ञान भवन, नई दिल्ली में एक कार्यक्रम में हिंदी संबंधित उत्कृष्ट कार्य के लिए पुरस्कार प्रदान किए।

• मंत्रालय, सरकारी विभाग, सार्वजनिक उपक्रम, और राष्ट्रीयता प्राप्त बैंकों को राजभाषा पुरस्कार प्रदान किए गए।

• 2015 में, गृह मंत्रालय ने हिंदी दिवस पर दिए जाने वाले दो पुरस्कारों का नाम बदल दिया। 1986 में स्थापित ‘इंदिरा गांधी राजभाषा पुरस्कार’ का नाम ‘राजभाषा कीर्ति पुरस्कार’ में और ‘राजीव गांधी राष्ट्रीय ज्ञान-विज्ञान मौलिक पुस्तक लेखन पुरस्कार’ का नाम “राजभाषा गौरव पुरस्कार” में बदल दिया गया।

हिंदी दिवस का उद्देश्य

हिंदी दिवस का प्रमुख लक्ष्य वर्ष में एक निश्चित दिन को यह संदेश प्रसारित करना है कि जब तक व्यक्ति हिन्दी का सम्पूर्ण तरीके से प्रयोग नहीं करते, हिन्दी भाषा की समृद्धि संभव नहीं है। इस दिन सरकारी कार्यालयों में हिन्दी को प्राथमिकता दी जाती है। जो व्यक्ति वर्षभर में हिन्दी में उत्कृष्टता प्रदर्शित करता है, वह पुरस्कृत किया जाता है।

आज के समय में, बहुत से लोग अपनी दैनिक जीवन में अंग्रेज़ी शब्दों का प्रयोग करते हैं, जिसका परिणाम है कि हिन्दी भाषा का महत्व कम हो रहा है। टेलीविजन, विद्यालय, सामाजिक संचार माध्यम और निजी संस्थान में अंग्रेज़ी का प्रभाव देखने को मिलता है। ऐसा लगता है कि हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी धीरे-धीरे संकिर्ण हो रही है और आने वाले समय में वह अदृश्य हो सकती है। हमें अपनी राष्ट्रभाषा को महत्व देने के लिए सक्रिय रूप से प्रयास करना होगा, अन्यथा वह अन्य भाषाओं में अधिकांश से पीछे रह जाएगी। वाराणसी की प्रमुख हिन्दी संस्था भी आज दुर्बल स्थिति में है। इसलिए, इस विशेष दिन पर, सभी से आग्रह किया जाता है कि वे अपनी दैनिक जीवन में हिन्दी का प्रयोग बढ़ाएं। हिन्दी में लेखन और शब्दकोश के उपयोग की जानकारी भी प्रदान की जाती है। हिन्दी भाषा के समृद्धि और संरक्षण के लिए सभी का सहयोग जरूरी है।

पुरस्कार

हिन्दी दिवस के अवसर पर हिन्दी भाषा के प्रति उत्साह को बढ़ावा देने के लिए सम्मान समारोह का आयोजन होता है। इस अवसर पर वे जो अच्छी तरह से हिन्दी भाषा का उपयोग करते हैं, उन्हें सम्मानित किया जाता है। पहले इस सम्मान का नाम राजनेताओं पर था, लेकिन बाद में इसे ‘राष्ट्रभाषा कीर्ति पुरस्कार’ और ‘राष्ट्रभाषा गौरव पुरस्कार’ रखा गया। ‘राष्ट्रभाषा गौरव पुरस्कार’ व्यक्तियों को दिया जाता है, जबकि ‘राष्ट्रभाषा कीर्ति पुरस्कार’ संगठनों और विभागों को दिया जाता है।

राजभाषा गौरव पुरस्कार

यह पुरस्कार विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर लिखने वाले भारतीय नागरिकों को प्रदान किया जाता है। इस पुरस्कार में कई श्रेणियाँ होती हैं, जिसमें नकद पुरस्कार और स्मृति चिह्न भी शामिल हैं। इसका मुख्य उद्देश्य हिन्दी को प्रौद्योगिकी और विज्ञान में प्रोत्साहित करना है।

राजभाषा कीर्ति पुरस्कार

सरकारी विभागों को दिया जाता है जो हिन्दी में उत्कृष्ट कार्य करते हैं। इसका मुख्य उद्देश्य हिन्दी का उपयोग सरकारी कार्यों में बढ़ावा देना है।

अंततः कुछ व्यक्तियों का मानना है कि हिन्दी दिवस मात्र एक रूपरेखा है और इससे हिन्दी का समर्थन और विकास नहीं होता। उनका विचार है कि समारोह में अंग्रेजी का प्रचलन है और सरकार केवल दिखावा कर रही है। फिर भी, कुछ लोग इसे हिन्दी के प्रति समर्थन का प्रतीक मानते हैं।

 

information source & image credit:

https://hi.wikipedia.org/wiki/%E0%A4%B9%E0%A4%BF%E0%A4%A8%E0%A5%8D%E0%A4%A6%E0%A5%80_%E0%A4%A6%E0%A4%BF%E0%A4%B5%E0%A4%B8

https://commons.wikimedia.org/wiki/File:Stamp_of_India_-_1988_-_Colnect_165264_-_Hindi_Day.jpeg

3 thoughts on “हिंदी दिवस”

  1. I’ve mentioned some sites below that are accepting guest posts,I would appreciate it if you would see them out and then, after you have done so, let me know which of these sites you would like to post on.
    If you are interested in any of these sites.

    bloombergnewstoday.com
    washingtontimesnewstoday.com
    topworldnewstoday.com
    chroniclenewstoday.com
    cnnworldtoday.com
    forbesnewstoday.com

    Reply

Leave a comment